आतंकी गतिविधियां रोकेगी झारखंड एटीएस

रांची: राज्य में आतंकी गतिविधियों को रोकने के लिए बनाई गई झारखंड पुलिस का आतंकवाद निरोधी दस्ता (एटीएस) अब एनआइए के सहयोग से कारगर कार्रवाई करेगी। पुलिस मुख्यालय ने राज्य में आर्थिक अपराध, साइबर अपराध व आतंकी गतिविधियों पर की जा रही कार्रवाई से सरकार को अवगत कराया है। बताया है कि राज्य में आतंकियों की सहयोगी संस्था प्रतिबंधित पोपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआइ) व बांग्लादेशी आतंकियों के बारे में डाटाबेस तैयार करना शुरू कर दिया गया है। पश्चिम बंगाल के सीमावर्ती क्षेत्र में सोने की तस्करी, जाली भारतीय नोट, कट्टरपंथी इस्लामिक विचारधारा का फैलाव, नाकरे टेरर फंडिंग रोकने के लिए प्लान तैयार है। इसके लिए एनआइए कोलकाता के साथ झारखंड एटीएस इंटेलिजेंस एकत्रित करने में जुटा है। झारखंड एटीएस अब तक एक्यूआइएस, सिमी, आइएम, जेएमबी, एलक्ष्टी जैसे आतंकी संगठनों का डेटाबेस तैयार कर रहा है। एटीएस ने अब संवेदनशील क्षेत्रों के मदरसों की निगरानी भी तेज कर दी है। इसमें पहले पायदान पर जमशेदपुर है, जहां जमातों, कश्मीरियों के बारे में भी जानकारी ली जा रही है।

पीएफआइ से जुड़े तीन कांडों को भी किया है टेकओवर

सीआइडी के एडीजी प्रशांत सिंह के आदेश पर झारखंड एटीएस ने प्रतिबंधित पोपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआइ) के तीन कांडों को भी टेकओवर किया है। इन कांडों में साहेबगंज के रांगा थाना कांड संख्या 10/18, पाकुड़ के मुफ्फसिल थाना कांड संख्या 26/18 व जामताड़ा के नारायणपुर थाना कांड संख्या 37/18 शामिल है। एटीएस ही इन मामलों का अनुसंधान करेगा। पीएफआइ को आतंकी साठगांठ के आरोप में गत वर्ष ही झारखंड सरकार ने प्रतिबंधित किया है।

Courtesy: https://epaper.jagran.com/ePaperArticle/17-jul-2018-edition-Ranchi-page_9-6290-8340-212.html


 Back to Top

Office Address: Jharkhand Police Headquarters, Dhurwa, Ranchi - 834004

Copyright © 2019 Jharkhand Police. All rights reserved.